Web3 Kya Hai? | Web3 Explained in Hindi [2022]

Web3 Kya Hai, Web3.0 Kya Hai, Web3 Ki Jaankari, Web3 in Hindi, Web3 Explained in Hindi, Web3 Kya Hai in Hindi, Web3 Information in Hindi, Web3 Explained

Web3 Kya Hai : इंटरनेट की शुरुआत 1983 में हुई थी और इसके शुरुआत के बाद आज के समय तक इंटरनेट बहुत ज्यादा विकसित हो चुका है।

इंटरनेट की दुनिया में Cryptocurrency और Metaverse जैसी कई चीजें आ चुकी है जो कि हमारा Future होने वाली है और इसी में आपने Web3 का नाम जरूर सुना होगा।

पर यदि आपको Web3 Kya Hai? यह नहीं पता तो आप बिल्कुल सही लेख पर आए हैं। इस लेख में हम web3 के बारे में पूरी जानकारी पढ़ेंगे और जानेंगे कि web3 हमारा Future कैसे बन सकता है और हमें इससे कैसे फायदा हो सकता है।

web3-kya-hai

Web3 की जानकारी

आप web3 के नाम से सोच रहे होंगे कि इसके पीछे Three(3) क्यों है तो इसका कारण यह है कि web3 से पहले web2 और web1 भी आ चुके हैं तो Web3 के बारे में पढ़ने से पहले हम पिछले दोनों वेब Version के बारे में पढ़ लेते हैं।

Web1 क्या है?

जब इंटरनेट की शुरुआत हुई थी तो कई लोगों को यह ज्यादा पसंद नहीं आ रहा था पर धीरे-धीरे लोगों को इंटरनेट पसंद आने लगा और शुरुआत में जितने भी वेबसाइट थी वह सभी Static वेबसाइट थी।

जिसमें हम जैसे Users सिर्फ वेबसाइट पर दिए हुए Content को पढ़ सकते थे पर उस Content के साथ Interact जैसे – कमेंट करना, Like करना, अपना Account बनाना आदि चीजे नहीं कर सकते थे।

web1-kya-hai

जैसे आज कर सकते हैं और Web1 पर जितने भी वेबसाइट थे उस समय वह सभी HTML पर हुआ करती थी जिसमें ज्यादातर सिर्फ Text ही होता था। कोई इमेज या वीडियो नहीं हुआ करता था और इसी इंटरनेट Version को web1 कहा गया है। Web1 का दौर 1989 से 2005 तक चला था।

Web1 शुरुवाती इंटरनेट का Version था इसलिए इसमें बहुत कमियां थी जिसके बारे में हमने नीचे लिखा हुआ है।

Web1 की कमियां

  • कोई भी यूजर किसी भी वेबसाइट पर जाकर Interact नहीं कर सकता था।
  • सभी वेबसाइट पर ज्यादातर टेक्स्ट ही होने के कारण वेबसाइट बहुत बोरिंग लगती थी।
  • सिर्फ वेबसाइट के Owner के पास ही Content को लोगो तक पहुंचाने की Permission थी।

जी, तो यह है Web1 की पूरी जानकारी तो चलिए अब हम web2 के बारे में जानते हैं।

Web2 क्या है?

2003-2004 के पास जब Google, Facebook, YouTube जैसी कंपनीज Market में आने लगी तो वहां से web2 की शुरुआत हुई जिसने web1 की सभी कमियों को दूर किया।

Web2 में कोई भी यूजर किसी भी वेबसाइट पर जाकर Interact जैसे – Comment करना, Content बनाना, Like करना आदि चीजे बहुत ही आसानी से कर सकता हैं और web2 में वेबसाइट Static के साथ Dynamic भी हो गयी हैं जिससे Websites देखने में भी अच्छे हो गए हैं।

इस समय इंटरनेट पर सभी Websites ज्यादातर Web2 पर ही हैं। Web1 में जहां पर हम सिर्फ वेबसाइट के Content को सिर्फ पढ़ सकते थे वही web2 में हम Content पढ़ने के साथ Interact और अपना Content भी बना सकते हैं।

Web2 में Social Media जैसे – Blogger, YouTube आदि के कारण हम जैसे कई आम लोगो ने इंटरनेट से पैसे कमाना भी शुरू किया पर Web2 में भी कई कमियां हैं जिसके बारे में हमने नीचे लिखा हुआ है।

Web2 की कमियां

  • इसकी सबसे बड़ी कमी यह है कि हम सभी का डाटा Google, Meta, Twitter जैसी बड़ी बड़ी Companies के पास है और यह सभी कंपनी हमारे डाटा का अपने मर्जी के अनुसार इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • हमारे Content का कंट्रोल भी इन सभी Giants कम्पनीज के पास ही हैं – जैसे अभी हमने यह लेख गूगल पर लिखा है तो गूगल अपनी मर्जी से हमारा यह लेख हमेशा के लिए अपने Server से डिलीट भी कर सकता है क्योंकि इसका पूरा कंट्रोल उनके पास है।
  • Web2 वेबसाइट को हैक करना बहुत आसान है क्योंकि इसमें वेबसाइट का डाटा एक ही कंपनी के Server में होता है और यही कारण हैं की आपने कई बार सुना होगा की कई बड़े बड़े Celebrities के सोशल मीडिया Handle Hack हो जाते हैं।

तो चलिए अब जानते हैं की यह Web3 Kya Hai? और यह हमारा Future कैसे हो सकता हैं।

Web3 Kya Hai?

अगर देखा जाए तो Web3 Idea की शुरुआत 2014 में Gavin Wood ने की थी जो कि Ethereum Crypto Coin के Co-Founder हैं। पर अभी तक web3 इंटरनेट पर पूरी तरीके से सम्मिलित नहीं हुआ है क्योकि यह अभी अपने बिल्कुल शुरुवाती समय में है।

Web3 का मतलब है एक डिसेंट्रलाइज्ड इंटरनेट जहां पर आपके पास आपके डाटा का पूरा कंट्रोल होगा और कोई भी दूसरी अन्य पार्टी के पास आपका डाटा नहीं होगा क्योंकि web3 Blockchain टेक्नोलॉजी पर काम करती हैं।

जिसमें आपका डाटा दुनिया भर के अलग-अलग कंप्यूटर Nodes में Stored रहता हैं और आपके डाटा का पूरा Control आपके हाथ में होता हैं और कोई भी आपके डाटा को इंटरनेट से Delete या Change नहीं कर सकता।

Web3 का मुख्य उदेश्य इंटरनेट को Decentralize करना हैं ताकि लोगो के डाटा को गलत तरीके से इस्तमाल ना किया जाए। इस समय NFT, Metaverse, AI और Crypto Currency Web3 का हिस्सा हैं क्योकि यह सभी चीजे Blockchain पर काम करती हैं। Web3 Projects पर कई बड़ी कम्पनीज इस समय काम भी कर रही हैं।

पर Tesla के CEO Elon Musk और Twitter Former CEO Jack Dorsey का कहना हैं की Web3 सिर्फ एक Buzzword हैं जिसे लोग बढ़ावा दे रहे हैं। आपका इसपर क्या विचार हैं कमेंट में हमे जरूर बताये।

नीचे हमने Web3 से होने वाले फायदों के बारे में लिखा हैं।

Web3 के फायदे

  • इसमें सबसे बड़ा फायदा यह हैं की आपका डाटा इंटरनेट पर सुरक्षित रहेगा और कोई भी Third Party आपके डाटा का इस्तमाल नहीं कर पायेगी।
  • Web3 Projects को Hack करना बेहद ही मुश्किल हैं क्योकि इसमें Blockchain Technology का इस्तमाल होता है।
  • आपको Web2 के मुकाबले इसमें ज्यादा Privacy मिलती हैं।
  • इंटरनेट पर बनाये हुए आपके Content की Ownership भी आपके रहेगी कोई भी दूसरी कंपनी आपके Content को Ban या डिलीट नहीं कर सकती।

जी, तो यह Web3 के कुछ मुख्य फायदे हैं और इन्ही चीजे के कारण इस समय कई कम्पनीज ने Web3 Projects पर काम करना शुरू कर दिया हैं। पर इसके आलावा Web3 के कई नुक्सान भी हैं जिसे हमने निचे लिखा हुआ हैं।

Web3 के नुक्सान

  • Decentralized होने के कारण कोई किसी भी तरह का Content इंटरनेट पर खुलेआम Upload कर सकता हैं।
  • आम लोगो के लिए Web3 के बारे में सीखना थोड़ा मुश्किल जरूर हैं, पर नामुमकिन नहीं क्योकि Web3 थोड़ा Typical Subject हैं।
  • कई लोगो का कहना हैं की Web3 को Regulate और इसमें Rules बनाना बहुत मुश्किल हैं, जिसके कारण इससे Cyber Crime का रेट बढ़ जायेगा।
  • Blockchain पर होने के कारण यदि Web3 से कोई Cyber Crime करता हैं तो उसे Track करना भी बहुत मुश्किल हैं, जिसके कारण कई लोगो को इससे बेहद परेशानी हो सकती हैं।

तो यह हैं Web3 के कुछ नुक्सान, पर Web3 पर जितने भी लोग काम कर रहे हैं वह सभी इन चीजों को ख़त्म कैसे करे इसपर भी विचार हो रहा हैं तो इसलिए आने वाले समय में यह नुक्सान ख़त्म भी हो सकते हैं।

यह लेख भी पढ़े:

Web3 अभी अपने बिलकुल शुरुवाती समय में हैं इसलिए इंटरनेट पर अभी कुछ ही Website Web3 का इस्तमाल कर रहे हैं। अगर आप Web3 के बारे में सीखना चाहते हैं तो इनकी Official Website Web3 Foundation पर जा सकते हैं।

Conclusion (निष्कर्ष)

Web3 आने वाले समय का हमारा Future हो सकता हैं इसलिए अगर आप इसके बारे में सीखना चाहते हैं तो जरूर सीखे। मैं आशा करता हु की इस लेख से Web3 Kya Hai? आपने सीख लिया होगा। अगर आपको कोई प्रश्न पूछना हैं तो आप निचे कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Frequently Asked Questions (FAQ)

Q: क्या Web3 का दौर शुरू हो चूका हैं?

Answer: नहीं अभी Web3 अपने शुरुवाती समय में हैं और इंटरनेट पर सभी Websites Web2 Version की हैं।

Q: इंटरनेट की शुरुवात कब हुई थी?

Answer: इंटरनेट की शुरुवात 1983 में हुई थी।

Q: Web3 काम कैसे करता हैं?

Answer: Web3 Blockchain टेक्नोलॉजी पर काम करता हैं और यही इसे Decentralized बनाता हैं।

Sharing Is Caring:

Hey There, Welcome to My Blog. Myself Gagan Shrivastav Founder of KarobaarGuru.com Am a Digital Entrepreneur & Passionate About Creating Content.

Leave a Comment